लेख
25-Jan-2023
...


============= शोभितसुरभिततेजमयपावन अरु अभिराम। राष्ट्र हमारा मान हैलिए उच्च आयाम।। राष्ट्र-वंदना मैं करूँकरता हूँ यशगान। अनुपमेयउत्कृष्ट हैभारत देश महान।। नदियाँपर्वतखेतवनसागर अरु मैदान। नैसर्गिक सौंदर्यमयमेरा हिंदुस्तान।। लिए एकता अति मधुरगीता और कुरान। दीवाली-होली सुखदएक्यभाव-पहचान।। सारे जग में शान हैहै प्रकीर्ण उजियार। राष्ट्र हमारा है प्रखरपरे करे अँधियार।। मातु-पितागुरुनारियाँपातीं नित सम्मान। संस्कार मम् राष्ट्र कीहै चोखी पहचान।। तीन रंग के मान सेहैं हम सब अभिभूत। राष्ट्रवंदना कर रहेभारत माँ के पूत।। राष्ट्रप्रेम अस्तित्व मेंआया नवल विहान। कण-कण करने लग गयाभारत का यशगान।। रखवाली नित कर रहेसीमाओं पर लाल। शौर्यवीरता देखकरहोते सभी निहाल।। आज़ादी की वंदनाकरता सारा देश। आओहम रच दें यहाँवासंती परिवेश।। ईएमएस / 25 जनवरी 23